February 26, 2024 10:24 pm

February 26, 2024 10:24 pm

मऊ:अनुरक्षण कार्य में हो रही लापरवाही एवं अवैध तरीके से अनुरक्षण शु:ल्क वसूले जाने को लेकर प्रतिनिधि उद्योग व्यापार मंडल के लोगों में भारी आक्रोश

मऊ। अनुरक्षण कार्य में हो रही लापरवाही एवं अवैध तरीके से अनुरक्षण शु:ल्क वसूले जाने को लेकर प्रतिनिधि उद्योग व्यापार मंडल के लोगों में भारी आक्रोश व्याप्त हो गया। सैकड़ो की संख्या में पहुंचे व्यापारियों ने सोमवार की सुबह लगभग 10:00 बजे जिला उद्योग प्रोत्साहन तथा उद्यमिता विकास विकास केंद्र कार्यालय का घेराव कर दिया और उपायुक्त के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किया। व्यापारियों ने जब उपायुक्त उद्योग राजेश रोमन से जाच समिति से निष्कासित किए जाने का कारण पूछा तो वे जवाब देने में असमर्थ दिखे।

व्यापारियों का आरोप है कि मांगकर्ता को ही जाच समिति से बाहर कर दिया गया है, जिससे व्यापारियों में गुस्सा है और मांगकर्ता को ही जांच समिति से बाहर किए जाने से यह प्रतीत होता है कि सगीर अहमद पूर्वाग्रह से ग्रसित है। जबकि पूर्व में जांच समिति व उपायुक्त एवं उद्योग विभाग गोरखपुर द्वारा जांच किया गया था, जिसमें नगर अध्यक्ष प्रवीण चंद्र मिश्र को जांच समिति का सदस्य बनाया गया था और उनके द्वारा विरोध करने पर उन्हें जाँच समिति से बाहर कर दिया गया,यह बात सुन उपायुक्त काफी नाराज हुए और अपने ही एक कर्मचारी सगीर को जमकर फटकार लगाया। नगर अध्यक्ष ने बताया कि मंडली उद्योग के अध्यक्ष द्वारा निर्देशित किया गया था कि आयुक्त प्रशासन आजमगढ़ की अध्यक्षता में समिति बनाकर स्थली जांच की जाए, परंतु उक्त आदेश का अनुपालन आज तक नहीं कराया गया। जिससे व्यापारियों में भारी आक्रोश व्याप्त है। व्यापारियों ने मांग किया कि इस तरह के किए गए कीर्तिकर वाइफ को मौखिक रूप से स्पष्टीकरण दे और लिखित रूप से कृत कार्रवाई से अवगत कराये। जिस पर उपायुक्त ने जांच में उन सभी विभागों को तुरंत अवगत कराकर जांच स्थगित करने का आश्वासन दिया।

इस दौरान नगर संरक्षक वीरेंद्र त्रिपाठी,प्रतिनिधि उद्योग व्यापार मंडल के जिला उपाध्यक्ष राकेश उपाध्याय, नगर मंत्री मांधाता राय, नगर उप महामंत्री पंकज यादव, सुनील यादव, नगर सचिव विरेंद्र कुमार सिंह, नगर उप सचिव अनुज कुमार गुप्ता, नगर संगठन मंत्री सूर्य प्रताप सिंह, कोषाध्यक्ष अशोक कुमार सिंह, उप कोषाध्यक्ष कमलेश कुमार गुप्ता, मीडिया प्रभारी विनीत अग्रवाल, प्रवक्ता श्याम सुंदर सिंह आदि मौजूद रहे।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?