February 27, 2024 12:12 am

February 27, 2024 12:12 am

पालिका अध्यक्ष श्री अरशद जमाल ने किया पालिका कम्यूनिटी हाॅल का औचक निरीक्षण



गुणवत्तायुक्त कार्य न पाये जाने पर पालिका अधिकारियों व ठेकेदार को दिये सख्त निर्देश
मऊनाथ भंजन- भारत सरकार द्वारा संचालित संगठित विकास योजना बकवल स्थित नगर पालिका कम्यूनिटी हाॅल का निर्माण कराया गया था जिसका शिलान्यास तत्कालीन मुख्यमंत्री मा0 मुलायम सिंह यादव जी के कर कमलो द्वारा वर्ष 2006 में हुआ था। इस योजनान्तर्गत बकवल स्थित पालिका कम्यूनिटी हाॅल व शाॅपिंग काॅम्पलेक्स, सारहू स्थित स्लाटर हाउस भवन, हट्ठीमदारी स्थित शाॅपिंग काॅम्पलेक्स व नगर पालिका कार्यालय, तथा कार्यालय के सामने शाॅपिंग काॅम्पलेक्स निर्माण इत्यादि कार्य मेरे कार्यकाल में कराया गया था। बकवल स्थित कम्यूनिटी हाॅल का सुन्दरीकरण के लिये वर्ष 2019 में तत्कालीन पालिका अध्यक्ष द्वारा रू0 1,79,00000.00 (एक करोड़ उन्नासी लाख रूपये) का बजट पास कराया गया था। गोरखपुर की कार्यदायी संस्था द्वारा निर्माण कार्य आरम्भ किया गया जो अभी तक निर्माणाधीन है जबकि कार्य पूर्ण करने हेतु 6 माह का समय निर्धारित किया गया था परन्तु 3 वर्ष पूर्ण होने पर भी आज तक कार्य पूर्ण नहीं हो सका। आज पालिका अध्यक्ष द्वारा अवर अभियंता श्री सी0पी0 दूबे एवं अन्य पालिका अधिकारियों के साथ योजना की प्रगति की जांच की गयी। जांच के दौरान पाया गया कि जो भी कार्य हुआ है वह मानक के अनुरूप नहीं है तथा जो कुर्सियां लगायी जा रही हैं वह बुहत ही खराब क्वालिटी की हंै। पालिका अध्यक्ष द्वारा हो रहे मानक के विपरित कार्य के लिये अवर अभियंता को निर्देशित किया गया है कि इस सम्बन्ध में ठेकदार को नोटिस दें और इनके विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही करें। साथ ही ठेकेदार को मौके पर निर्देशित किया गया है कि गुणवत्तायुक्त कुर्सियां मंगा कर लगायी जायें। अधिकारियों और ठेकेदार को स्पष्ट निर्देश दिये गये हैं कि 30 जून 2023 तक मानक के अनुरूप कार्य को पूर्ण नहीं किया जाता है तो ऐसी दशा में ठेकेदार को काली सूची में डाल कर जमानत धनराशि जब्त कर ली जाये तथा शेष कार्य के लिये नयी निविदा आमंत्रित कर नियमानुसार कार्य को पूर्ण किया जाये, साथ ही यह भी निर्देशित किया गया है कि जब तक हाल का कार्य पूर्ण न हो जाये तक तब हाल की बुकिंग कार्य को स्थगित कर दिया जाये।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?