February 27, 2024 12:07 am

February 27, 2024 12:07 am

मऊ:पहले घंटे में मिला सही इलाज तो मरीज की बच सकती है जान :-डा0 सुजीत सिंह

इमरजेन्सी मेडिसिन अपडेट 2023 नामक चिकित्सा संगोष्ठि का किया गया आयोजन

कल दिनाक 8 जनवरी को सोसायटी फॉर इमेरजेन्सी मेडिसीन इण्डिया यू0पी0 चेप्टर और शारदा नारायन हास्पिटल व जन नायक चन्द्रशेखर हास्पिटल एण्ड कैसंर इन्सट्ीयूट के संयुक्त तत्वाधान में इमरजेन्सी मेडिसिन अपडेट 2023 नामक चिकित्सा संगोष्ठि का आयोजन किया गया। कार्यक्रम कि शुरूआत दीप प्रज्वलन व शारदा नारायन पैरामेडीकल इन्सट्ीट्यूट के छात्राओ द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम से हुआ। इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जनपद के मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 नरेश चन्द्र अग्रवाल को कार्यक्रम के आयोजन अध्यक्ष डा0 संजय सिंह द्वारा अंगवस्त्र व पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया गया। इस चिकित्सा संगाष्ठि में देश के दिल्ली,लखनऊ,वाराणसी एवं अन्य जगहो से आये वक्ताओं द्वारा इमरजेंसी मेडिसीन व प्रि हास्पिटल विषयो पर विस्तृत रूप से व्याख्यान दिया गया। वक्ताओ द्वारा इलाज के पहले घंटे के महत्व पर विशेष प्रकाश डाला गया तथा एंटीबायोटिक दवाओ के प्रयोग पर व्याख्यान प्रस्तुत किया गया।कार्यक्रम मे आये हुए सभी वाक्ताओ को आयोजन अध्यक्ष डा0 संजय सिंह, डा0 एकिका सिंह व सोसायटी फॉर इमेरजेन्सी मेडिसीन इण्डिया यू0पी0 चेप्टर के अध्यक्ष डा0 सुजीत सिंह द्वारा स्मृति चिन्ह व अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया गया। सोसायटी फॉर इमेरजेन्सी मेडिसीन इण्डिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा0 सरवना कुमार ने इस प्रकार के कार्यक्रम के आयोजन के लिए डा0 सुजीत सिंह को बधाई दिये और कहा कि भारत में इमरजेन्सी मेडिसीन को और जागरूक करने की आवश्यकता है। इस अवसर पर सोसायटी फॉर इमेरजेन्सी मेडिसीन इण्डिया यू0पी0 चेप्टर की सचिव डा0 सेफाली शर्मा भी उपस्थित रही। अन्त में कार्यक्रम के आयोजन अध्यक्ष डा0 संजय सिंह ने कहा कि इस प्रकार के कांफ्रेस का आयोजित होना हमारे जनपद के लिए गर्व की बात है मुझे पुरा विश्वास है कि मऊ व आसपास के जनपद से आये चिकित्सको का इसका लाभ मिलेगा। कार्यक्रम में प्रतिभागी सभी चिकित्सको को उपस्थिति प्रमाण पत्र दिया गया। इस अवसर पर डा0 कुसुम वर्मा,डा0 एस0सी0 तिवारी ,डा0 पद्मावती,डा0 विजय के0 सिंह,डा0 राहुल कुमार,डा0 रूपेश के0 सिंह,डा0 रेहान,डा0 आशिष वर्मा, आदि लोग उपस्थित रहे।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?